Home Song Lyrics Kal ho na ho lyrics Mahadevan Shankar / Akhtar Javed / Mendonsa...

Kal ho na ho lyrics Mahadevan Shankar / Akhtar Javed / Mendonsa Aloyius Peter / Noorani Ehsaan

0
107
हर घड़ी बदल रही है रूप ज़िंदगी
छाँव है कभी, कभी है धूप ज़िंदगी
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो
हर घड़ी बदल रही है रूप ज़िंदगी
छाँव है कभी, कभी है धूप ज़िंदगी
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो
चाहे जो तुम्हें पूरे दिल से
मिलता है वो मुश्किल से
ऐसा जो कोई कहीं है
बस वो ही सबसे हसीं है
उस हाथ को तुम थाम लो
वो मेहरबाँ कल हो न हो
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो
हो पलकों के ले के साये
पास कोई जो आये
लाख सम्भालो पागल दिल को
दिल धड़के ही जाये
पर सोच लो इस पल है जो
वो दास्ताँ कल हो न हो
हर घड़ी बदल रही है रूप ज़िंदगी
छाँव है कभी, कभी है धूप ज़िंदगी
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो
जो है समाँ कल हो न हो…
Songwriters: Mahadevan Shankar / Akhtar Javed / Mendonsa Aloyius Peter / Noorani Ehsaan

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here